Monthly Archives: December 2013

Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin ( मंगलमय संस्था समाचार ) Project Kalpvriksh 27th December 2013

Ashram News Bulletin ( मंगलमय संस्था समाचार ) Project Kalpvriksh 27th December 2013

Project Kalpvriksh,
Mangalmay Sanstha Samachar,
“Project Kalpvriksh”, Email: yss.kalpvriksh@gmail.com,Facebook: yss.kalpvriksh@gmail.com, Twitter: @yssmukhyalay

Keywords: Asaram, Asharam, Ashram, Mangalmay, Sanstha Samachar, Ashram News Bulletin,

Advertisements

Sant Asharamji Bapu – Project Kalpvriksh

Project Kalpvriksh

प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष

हरि ॐ !

आप सभी जानते हैं पेड मीडिया ने किस तरह संत आशारामजी बापू की छवि को धूमिल किया है । इस बिकाऊ मीडिया के कुप्रचार पर पानी फेरके, भारत भर के प्रत्येक व्यक्ति के सामने ‘संत आशारामजी बापू निर्दोष हैं’ – इस सच्चाई को उजागर करने के लिए युवा सेवा संघ मुख्यालय लेकर आ रहा है ‘‘प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष’’ । इस प्रोजेक्ट द्वारा हम संत आशारामजी बापू की सच्चाई लोगों तक पहुँचायेंगे । साथ ही हम इसके द्वारा एक ऐसा नेटवर्क तैयार करेंगे जिसमें देशभर के साधकों के साथ असाधक भी होंगे । जनता ही जनार्दन होती है इसलिए जनता के आँखों पर जो झूठ का पर्दा मीडिया ने लगाया है उसे हटाना हम सबका कर्तव्य है । सभी साधक भाई-बहनों से प्रार्थना है कि इस प्रोजेक्ट में सहभागी होकर इसे सफल बनायें ।

आइये जानते हैं क्या है प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष ।

प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष युवा सेवा संघ मुख्यालय द्वारा संचालित किया जा रहा है । यह प्रोजेक्ट मोबाइल पर वॉट्सअप के द्वारा किया जायेगा । युवा सेवा संघ मुख्यालय ने वाट्सअप पर कुछ ग्रुप तैयार किये हैं जो इस प्रकार हैं : कल्पवृक्ष-१, कल्पवृक्ष-२, कल्पवृक्ष-३ इत्यादि । इन ग्रुप्स के प्रत्येक मेम्बर का काम है कि अपने वाट्सअप पर दो प्रकार के ग्रुप बनाये । एक तो साधकों का ग्रुप दूसरा नॉन-साधकों का । साधकों के ग्रुप का नाम कल्पवृक्ष और नॉन-साधकों के ग्रुप का नाम जागो हिन्दुस्तानी रखें । कल्पवृक्ष और जागो हिन्दुस्तानी ग्रुप नेम के साथ कुछ नम्बर भी डालें, ताकि एक जैसे दो ग्रुपस आपके मोबाइल में ना रहें । उदाहरण के तौर पे कल्पवक्ष-४२५४ और जागो हिन्दुस्तानी -७८९४५। जो ग्रुप आपने तैयार किया है उसमें साधकों के ग्रुप मेंम्बर्स से कहें कि वे भी इसी तरह के दो ग्रुपस बनाये और ऐसा ही करने को आगेवाले ग्रुप मेंम्बरों से कहें । इस चेन से आगे चलकर यह एक ऐसा कल्पवृक्ष बन जायेगा जिसकी शाखाओं का कोई अंत नहीं, मतलब अनंत है । आपके पास अगर ज्यादा लोगों के कांटैक्ट्स हैं तो आप दो से ज्यादा ग्रुप भी बना सकते हैं ।

एक बात का विशेष ध्यान रखें – ये ग्रुप चैqटग या कॉन्वरसेशन के लिए नहीं है । इसलिए किसी प्रकार का पोस्ट ना डोलें । युवा सेवा संघ मुख्यालय से जो भी पोस्ट आये उसे आगे के ग्रुप में फॉरवार्ड करना है । बस एक बात का ध्यान रखना है कि जो पोस्ट ऑनली फॉर साधक आये उसे इस इन्सटड्ढक्शन के साथ सिर्फ साधक के ग्रुप में फॉरवार्ड करना है असाधक के ग्रुप में नहीं ।

असाधक के ग्रुप के रूल्स कुछ अलग हैं और उसे कॉन्वरसेशन के लिए खुला छोड़ दें । इस ग्रुप में एक ध्यान रखें कि आप अकेले ना पड़ जाये इसलिए चार से पाँच ऐसे साधकों को जरूर रखें जो किसी भी प्रकार के उल्टे-सीधे सवालों का जवाब समझदारी से दे सके ।

अब आप सभी लोगों से अनुरोध है कि ज्यादा-से-ज्यादा लोगों से मिलें और अपने संपर्क सूची में उन लोगों के नम्बर सांझा(सेव) करें, असाधक ग्रुप के लिए । हिन्दू-संगठन, पुलिस अधिकारी, वकील, जज और पॉलिटिशिसनस के नम्बर प्रयत्नपूर्वक जोड़ने को कोशिश करें ।

तो ये है प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष । आप सभी साधक भाई-बहनों से प्रार्थना है कि इस प्रोजेक्ट से जुड़कर इसे इतना बड़ा बनायें कि पूरी दुनिया में संत आशारामजी बापू के खिलाफ रची गई साजिस का पर्दाफास हो सके ।

धन्यवाद ।

हरि ॐ !

लँगड़ा कौआ मत बनो, शाहबाज बनो। केवल अपने लिए नहीं, सभी के लिये जियो।

लँगड़ा कौआ मत बनो, शाहबाज बनो। केवल अपने लिए नहीं, सभी के लिये जियो।

5 हजार वर्ष से आलस्य एवं भोगरूपी निद्रा में सोये हुए भारत माता के होनहार युवको ! बहुत सो चुके हो, अब तो जागो। जरा देखो तो, तुम्हारे देश की कैसी अवस्था हो रही है ! अत्याचार, पाप, अनैतिकता और भ्रष्टाचार बढ़ रहे हैं। माताओं और बहनों का सतीत्व लूटा जा रहा है। देश में नैतिकता और आध्यात्मिकता का ह्रास होता जा रहा है। अन्यायी और अत्याचारी तुम्हें निगलने के लिए तैयार बैठे है। अब उठो, तुम्हारी भारत माता तुम्हारे सिरहाने के पास आकर तुम्हें जगा रही है।

‘खाओ, पियो और मौज करो’ यह तो आजकल के जवानों का नारा हो गया है। ऐ जवानो ! तुम क्या खा पी सकते हो ? तुमसे अधिक तो पशु खा पी सकते हैं। मनुष्य शरीर में क्या खा सकते हो ? कभी हाथी का शरीर मिलेगा तो कई मन खा जाओगे तो भी तुम्हें कोई पेटू नहीं कहेगा। मनुष्य योनि में आये हो तो कुछ ऐसा कर लो ताकि प्रशंसा का मुकुट बाँधकर मुस्कराते हुए प्रियतम परमात्मा से मिल सको।

इस शरीर से तुम कितने भोग भोगोगे ? तुमसे अधिक भोग भोगने की शक्ति तो बकरे, घोड़े और कुत्ते में है। विषयों के क्षणिक आनंद में मत बहो। सबसे अधिक आनंद तो स्वयं को पहचानने में है। यह मनुष्य जन्म तुम्हें बड़े भाग्य से मिला है। इसका सदुपयोग करके स्वयं को पहचान लो, नहीं तो सब कुछ व्यर्थ चला जायगा और चौरासी के चक्कर में भटकाकर रोते रहोगे।

उपनिषदों में लिखा है कि ’संसार की कोई भी वस्तु आनंदमय नहीं है। शरीरसहित संसार के सारे पदार्थ क्षणिक अस्तित्व वाले हैं, किंतु आत्मा अजर-अमर है, परमानंदस्वरूप है।’

लँगड़ा कौआ मत बनो, शाहबाज बनो। केवल अपने लिए नहीं, सभी के लिये जियो। परोपकार उत्तम गुण है। संतों का धन क्या है ? परोपकार। बुरे व्यक्ति अच्छे कार्य में विघ्न डालते रहेंगे परंतु ‘सत्यमेव जयते।‘ यहाँ नहीं तो वहाँ देर-सवेर सत्य की ही जीत होती है। धर्म का अंग सत्य है। एक सत् को धारण करो तो समस्त दुष्ट स्वभाव नष्ट हो जायेंगे। विघ्नों को चूर्ण करो। हिम्मत रखो, दृढ़ निश्चय करो।

महान आत्मा बनो। ऐसा न सोचो कि ’मैं अकेला क्या कर सकता हूँ ?’ स्वामी विवेकानंद भी अकेले ही थे, फिर भी उन्होंने भारत को गुलाम बनाने वाले गोरों के देश में जाकर भारतीय संस्कृति की ध्वजा फहरायी थी। स्वामी रामतीर्थ भी तो अकेले ही थे। महात्मा गाँधी भी अकेले ही चले थे, परंतु उन्होंने दृढ़ निश्चय रखा तो हिन्दुस्तान का बच्चा-बच्चा उनके साथ हो गया। इन सभी का नाम अमर है। आज भी इनकी जयंतियाँ मनायी जाती हैं। एक आलू बोया जाय तो कालांतर में उससे सैंकड़ों मन आलू उत्पन्न हो सकते हैं। आम की एक गुठली बोने से हजारों आम पैदा किये जा सकते हैं।

स्वयं पर विश्वास रखो। शेर को यदि अपने-आप पर विश्वास न हो तो वह नींद कैसे ले सकता है ? वह तो वन के सभी प्राणियों का शत्रु है। हृदय में दिव्य गुणों को धारण करो तो तुम केवल अपने को ही नहीं अपितु दूसरों को भी तारोगे। जगत में यश-अपयश को सपना समझकर तुम अपने-आपको जानो।

अपने कर्त्तव्यपालन में अपने धर्म पर दृढ़ रहने के लिए चाहे जितने भी कष्ट आयें, उन्हें प्रसन्नता से रहना चाहिए। अंततः सत्य की ही जय होती है। तुम कहोगे कि कष्ट अच्छे नहीं होते परंतु मैं तुमसे कहता हूँ कि जिनमें कष्ट सहने की क्षमता नहीं है, वे दुनिया से निकल जायें। उन्हें संसार में रहने का कोई अधिकार नहीं है।

हे आर्य वीरो ! अब जागो। आगे बढ़ो। हाथ में मशाल उठाकर अत्याचार से टक्कर लेने और महान बनने के लिए आगे बढ़ो। आगे बढ़ो और विजय प्राप्त करो। सच्चे कर्मवीर बाधाओं से नहीं घबराते। अज्ञान, आलस्य और दुर्बलता को छोड़ो।

जब तक पूरा न कार्य हो, उत्साह से करते रहो।

पीछे न हटिये एक तिल, आगे सदा बढ़ते रहो।।

नवयुवको ! पृथ्वी जल रही है। मानव-समाज में जीवन के आदर्शों का अवमूल्यन हो रहा है। अधर्म बढ़ रहा है, दीन-दुःखियों को सताया जा रहा है, सत्य को दबाया जा रहा है। यह सब कुछ हो रहा है फिर भी तुम सो रहे हो। उठकर खड़े हो जाओ। समाज की भलाई के लिए अपने हाथों में वेदरूपी अमृतकलश उठाकर लोगों की पीड़ाओं को शांत करो, अपने देश और संस्कृति की रक्षा के लिए अन्याय, अनाचार एवं शोषण को सहो मत। उनसे बुद्धिपूर्वक लोहा लो। सज्जन लोग संगठित हों। लगातार आगे बढ़ते रहो…. आगे बढ़ते रहो। विजय तुम्हारी ही होगी।

Sant Asharamji Bapu – Rules of Project Kalpvriksh

Sant Asharamji Bapu - Rules of Project Kalpvriksh

प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष के नियम

प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष की सफलता कुछ पर आधारित हैं । इसे आपको सख्ति से पालन करना हैं, सख्ति से आगे के ग्रुप को पालन करवाना हैं । हमें आशा हैं कि आप सभी इन नियमों का पालन करेंगे ।
1) प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष ग्रुप में कभी कोई मैसेज या पोस्ट नहीं डालना हैं ।
यदि कोई भी इस नियम का उल्लघंन करेगा, तो उसे ग्रुप से निकाल दिया जायेगा । आप जो ग्रुप बनायेगें साधकों का उसमें भी यही नियम रखे कि कोई भी मैसेज या पोस्ट न डालें । यदि कोई भी मैसेज या पोस्ट डालें, तो आप उसे ग्रुप से निकाल सकते हैं ।
2) मुख्यालय की ओर से आप को दो प्रकार के मैसेज भेजे जायेंगें :-
a) Only for Kalpvriksh:- सावधानी पूर्वक इस मैसेज को आगे के साधकों के ग्रुप में डालना हैं । इसे भूल कर भी जागो हिन्दुस्तानी (Non sadhak group) में नहीं डालना हैं ।
b) For both groups:- ये मैसेज कल्पवृक्ष व जागो हिन्दुस्तानी दोनों ग्रुप में डालना हैं ।
सावधानी – ऊपर लिखें instructions (a,b) मैसेज के साथ आगे के साधकों का ग्रुप (कल्पवृक्ष) में डालें ताकि उनको भी पता चल सके कि मैसेज किस ग्रुप में डालना है । जागो हिन्दुस्तानी ग्रुप में कभी कोई भी instructions न डालें ।
3) आपके मैसेज या पोस्ट हमारे लिये बहुमुल्य है । मगर आपको ग्रुप में मैसेज या पोस्ट डालने के लिये इसलिये रोका गया है,क्योकि मुख्यालय की ओर से जो आपको मैसेज मिलेगें वो बहुत सारे मैसेजो की भीड में खो न जाये । आप अपने मैसेज या पोस्ट हमारे Email Address “yss. kalp vriksh @gmail.com “ और Facebook A/C “www.facebook.com/yss.kalpvriksh “ पर भेजे । हमें प्रोजेक्ट कल्पवृक्ष सफल बनाने के लिये आप सभी का सहयोग चाहिये ।
आप जो भी मैसेज, इमेज, और विडियो भेजे, उनका विषय हिन्दुत्व, भारतदेश, भारतिय राजनिति व पूज्य बापूजी होना चाहिए ।
4) हमारा संपर्क नं.079-3987761

हम भी है जोश मे !!!

हम भी है जोश मे !!!

फैसला अभी बाकी है, हम सोये नहीं है । जमाना भी जीता नहीं है, हम भी हारे नहीं है । सत्य की जीत हो रही है ओर होगी ।

%d bloggers like this: