Blog Archives

आहार कैसा हो ?

asaramji
आहार कैसा हो ?

आहार शुद्धिः

भोजन में शुद्धि एवं पवित्रता होनी चाहिए। उपनिषदों में आया है।

आहारशुद्धौ सत्त्वशुद्धि सत्त्वशुद्धौ ध्रुवा स्मृतिः।

आहार शुद्ध हो तो सत्त्व गुण की वृद्धि होती है। सत्त्वगुण बढ़ता है तो आत्मस्वरूप की स्मृति जल्दी होती है।

हम जो भोजन करते हैं वह ऐसा पवित्र होना चाहिए कि उसे लेने से हमारा मन निर्मल हो जाय। भोजन के बाद आलस एवं निद्रा आये ऐसा भोजन नहीं लेना चाहिए। शरीर उत्तेजना आ जाय ऐसा भोजन भी नहीं लेना चाहिए।

‘श्रीमद् भागवत’ भोजन के संबंध में तीन बातें स्पष्ट रूप से बतायी गयी हैं- पथ्यम् पूतम् अनायास्यम्। भोजन अपने शरीर के लिए पथ्यकारक हो, स्वभाव से एवं जाति से पवित्र हो तथा उसे तैयार करने में ज्यादा श्रम न पड़े। जरा विचार करो कि आप जो भोजन ले रहे हैं वह भगवान को भोग लगाने के योग्य है कि नहीं ? भले ही आप थाली परोस कर श्रीविग्रह के समक्ष न रखें, फिर भी भगवान सबके पेट में बैठकर खाते हैं। मात्र खाते ही नहीं पचाते भी हैं। गीता में भगवान श्री कृष्ण कहते हैं।

अहं वैश्वानरो भूत्वा प्राणिनां देहमाश्रितः।

प्राणापान समायुक्त पचाम्यन्नं चतुर्विधम्।।

“मैं ही समस्त प्राणियों के शरीर में स्थित रहने वाला प्राण एवं अपान से युक्त वैश्वानर अग्निरूप होकर चार प्रकार के अन्न को पचाता हूँ।’

(गीताः 15.14)

अतः आप जो वस्तु खाने वाले हो, वह भगवान को ही खिलाने वाले हो, वैश्वानर अग्नि में हवन करने वाले हो – यह समझ लो। होम करते समय हविष्य का हवन करते हैं उसी प्रकार भोजन का ग्रास मुख में रखते हुए भावना करो कि ‘यह हविष्य है एवं पेट में स्थित जठराग्नि में इसका हवन कर रहा हूँ।’ ऐसा करने से आपका वह भोजन हवनरूप धर्म बन जायेगा।

भोजन पवित्र स्थान में एवं पवित्र पात्रों में बनाया हुआ होना चाहिए। भोजन बनाने वाला व्यक्ति भी शुद्ध, स्वच्छ, पवित्र एवं प्रसन्न होना चाहिए। भोजन बनाने वाला व्यक्ति यदि रोता हो कि मुझे पूरा वेतन नहीं मिलता, माता भी दुःखी अवस्था में भोजन बनाती हो, गाय दुहने वाला दुःखी हो, गाय भी दुःखी हो तो ऐसे भोजन एवं दूध से तृप्ति एवं शांति नहीं मिल सकती। मासिक धर्म में आयी हुई महिला के हाथ का भोजन चित्तप्रसाद के लिए अत्यंत हानिकारक है।

भोजन बनाने में उपयोग में आने वाली वस्तुएँ भी स्वभाव से एवं जाति से शुद्ध होनी चाहिए। मनुष्य की पाचन शक्ति पशुओं की पाचनशक्ति के समान नहीं होती। अतः मनुष्य का भोजन अग्नि में पकाया हुआ हो तो हितावह है। कई पदार्थ सूर्य, जल एवं वायु द्वारा पकाए हुए भी होते हैं। पका हुआ भोज्य पदार्थ पेट में आता है तो ठीक ढंग से पच जाता है। उसमें से रस उत्पन्न होता है जो मानव में शक्ति उत्पन्न करता है।

सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण बात तो यह है कि भोजन हमारे हक का होना चाहिए। शास्त्रकार कहते हैं-

योऽर्थेशुचिः स शुचिः स्यान्न मृद्वारि शुचिः शुचिः।

सर्वेषामेव शौचनामर्थशौचं परं स्मृतम्।।

‘केवल मिट्टी एवं पानी से शुद्ध की गयी वस्तु ही शुद्ध नहीं होती। अर्थशुद्धि ही वास्तविक शुद्धि है अर्थात् पवित्र धन से प्राप्त हक की वस्तु ही शुद्ध मानी जाती है।’

अपने हक का भोजन करने वाले का जीवन पवित्र हो जाता है। अंतःकरण को पवित्र एवं निर्मल करने के लिए आहारशुद्धि पर ध्यान देना अत्यंत आवश्यक है। अपनी संस्कृति संस्कार-प्रधान है, भोग-प्रधान या अर्थ-प्रधान नहीं। धन ही जीवन का सर्वस्व नहीं है। ऐसे संत-महात्मा एवं गृहस्थ भी देखने को मिलते हैं कि जिनके पास कुछ नहीं है, अकिंचन है फिर भी अत्यंत प्रसन्न हैं। वे कोई पागल नहीं हैं, पूरे स्वस्थ हैं, बुद्धिमान हैं। वित्त अथवा पदार्थों के बिना भी इतने प्रसन्न रहते हैं, इतने निर्मल चित्तवाले रहते हैं कि उनसे जो मिलता है वह भी प्रसन्न हो उठता है। जिन्हें स्पर्श करते हैं, जिन पर मीठी नज़र डालते हैं उनका जीवन भी मीठा-मधुर हो जाता है। इस प्रकार जीवन में चित्त की निर्मलता अत्यंत महत्त्वपूर्ण है। संपत्ति सुख का कारण नहीं है, वरन् चित्त की निर्मलता सुख का कारण है। आपकी जेब में से कोई दो रूपये चुरा ले तो आपको अच्छा नहीं लगेगा किन्तु यदि आप अपने हाथों से दो लाख रूपये का दान करोगे तो मन निर्मल एवं प्रसन्न हो उठेगा। यदि धन-संपत्ति में ही सुख हो तो दान करने के बाद आपको पश्चाताप होना चाहिए किन्तु ऐसा नहीं है। जीवन में सुखी रहना चाहते हो तो अन्य पवित्रताओं के साथ धन की पवित्रता भी आवश्यक है।

Advertisements

श्री नारायण साईं जी के जन्मोत्सव की खूब खूब बधाई !!

श्री नारायण साईं जी के जन्मोत्सव की खूब खूब बधाई !!

२९ जनवरी : बापुनंदन श्रद्धेय श्री नारायण साईं जी के जन्मोत्सव की खूब खूब बधाई !!

Ramgopalji Maharaj – Matri Devo Bhav

C_MPP Cards__2_Front

Sant Asharamji Bapu – Aaj Ke Darshan

Sant Asharamji Bapu - Aaj Ke Darshan

aaj ke darshan 2-IMG-20140122-WA0111

#KnowTheTruth & Rise4Justice Wake Up Indians [Full English Movie]

#KnowTheTruth & Rise4Justice Wake Up Indians [Full English Movie]

Jago Hindustani (Full English Movie)

#Bail4Bapuji – Sant Asharam #Bapuji – सत्संग क्या है ?

#Bail4Bapuji - Sant Asharam #Bapuji - सत्संग क्या है ?

जोधपुर विशाल संत सम्मलेन (15 जनवरी ) में आने वाले महानुभाव संत व उच्च हस्तियाँ

जोधपुर विशाल संत सम्मलेन (15 जनवरी ) में आने वाले महानुभाव संत व उच्च हस्तियाँ

गुरुभक्तों के खुल गये भाग जब गुरुसेवा मिले

आत्मीय श्री,
सप्रेम सदगुरु स्मरण

आज हम सभी गुरुभक्तों के लिए सुनहरा अवसर है कि जोधपुर में संत सम्मेलन 15 जनवरी को रखा गया है |
गुरु ने हमे क्या नही दिया है ? आज गुरूजी के लिए खुद करने की बारी है, हमारी उपस्थिति गुरुदेव के लिए सेवा पुष्प है |
अपने साथ-साथ और ज्यादा से ज्यादा लोगों को आने के लिए प्रेरित करें |

संत सम्मेलन के लिए केवल दो दिन रह गए हैं | संत सम्मेलन में निम्नलिखित गणमान्य संत आ रहे हैं :-
१) स्वामी चक्रपाणी जी महाराज
२) सुरेश चौहान (सुदर्शन चैनल)
३) चंद्रप्रकाश द्विवेदी (चाणक्य)
४) पंकज धीर (महाभारत के कर्ण)
५) रामायण के जामवंत
६) पंचानंद गिरिजी महाराज
७) परमात्मानंदजी महाराज
८) संत कृपारामजी महाराज

इसके आलावा और बहुत से संत अपेक्षित हैं | अपने अपने क्षेत्रों से अधिक से अधिक धर्मप्रेमी लोगों को लेकर आयें |
अपने अपने क्षेत्रों से आने वाले साधकों की रिपोर्ट केन्द्रीय आपातकालीन समिति को दें |

केंद्रीय आपातकालीन मिशन

राज्य प्रतिनिधि          राज्य                                           संपर्क
अजय गुप्ता            उत्तर प्रदेश / दिल्ली                   07820924294
राजकुमार          गुजरात / कर्नाटक / आंध्र प्रदेश
                           छत्तीसगढ़/राजस्थान              07610826965/08058306982
गोपाल राव    ओड़िसा / झारखण्ड/ पश्चिम बंगाल          07891274291
नरेश कुमार               पंजाब/ हरियाणा                    07610826964
सुरेंदर भाई         जम्मू / उत्तराखंड/ हिमाचाल प्रदेश/
                                बिहार                                  09785270205
कपिल यादव               मध्य प्रदेश                           07610826955
तारा भाई                     महाराष्ट्र                             09371852206

#Bail4Bapuji Urgent and important twitter message for all Sadhaks and Sevadars

#Bail4Bapuji Urgent and important twitter message for all Sadhaks and Sevadars

Urgent and important twitter message for all Sadhaks and Sevadars

[audio http://www.mediafire.com/listen/v6uybeepww82zse/Urgent%20and%20important%20twitter%20message.m4a]

#Bail4Bapuji – 11-1-14 – Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin (मंगलमय संस्था समाचार)

Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin (मंगलमय संस्था समाचार) 11-1-14

Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin (मंगलमय संस्था समाचार) 11th January, 2014

आज संत आशारामजी बापू से जुडी हर छोटी-बड़ी खबर दिखने का कई चैनलों द्वारा दवा किया जा रहा है जिसके लिए उन्हें कितना ही झूठ क्यों ना बोलना पड़े । कुछ समय पहले शिवा भाई के मोबाइल से अश्लील वीडियो क्लिप मिलने का दावा किया गया । इसकी सच्चाई का पता तब चला जब शिवा भाई मिडिया के सामने आकर बोले : बापूजी कभी किसी लड़की से एकांत में मिलते नहीं हैं । लड़की का आरोप था के शिवा भाई ने उसको अंदर भेजा था और धमकी दी थी कि बाहर कोई बात ना करें । शिवा भाई वहाँ से ७ बजे निकल गये थे, जिनके सबूत उन्होंने कोर्ट में दे दिए । वे बापूजी के साथ ८ साल से हैं और उन्होंने मिडिया के सामने कहा के ऐसा कुछ हुआ नहीं है । अगर कुछ होता तो लड़की सामन्य स्थिति में ना होती जबकि वो रात वही रुकी, खेली अगले दिन गये तो किसी से ऐसा कुछ नहीं कहा । मेरे साथ भी बहुत जबरदस्ती की गयी की मैं वही कहूं जो वो मुझसे कहलवाना चाहते हैं । मेरी शिखा खिंच के उखाड़ ली गयी ।
एक वीडयो जिसमें संत आशारामजी बापू छोटी सी बच्ची के कंधे पर हाथ रखकर आशीर्वाद दे रहे थे, उसके लिए मिडिया में उनके अवैद्य संबंध घोषित कर दिए । इस बात को लेकर उस परिवार में काफी रोष है । और उन लोगों ने उन चैनलों के खिलाफ ऐफ.आई.आर. भी करवा दी है । उन चैनलों के खिलाफ छोटी बच्ची की इज्जत उछालने के लिए पोस्को की धारा और ज़ीरो ऐफ.आई.आर. भी लगी है । और फिर भी उनके
कर्मियों को आज सजा क्यों नहीं दी जा रही इस बात को लेकर पुरे भारत की जनता में आक्रोश है ।
ट्विटर पर भी आज बापूजी के पुरे विश्व भर के साधकों ने धूम ही मचा दी है । संत आशारामजी बापू की रिहाई को #Bail4Bapuji करके ट्वीट चल रही है । इस खबर को मिडिया में भी दिखाया जा रहा है । बार-बार ये आवाज उठ रही है के संत आशारामजी बापू को बेल क्यों नही मिल रही है और चैनलों पर गलत खबरें क्यों दिखायी जा रही हैं ?
अहमदाबाद आश्रम में रहने वाली महिलाओं को पुलिस द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है । पुलिस बिना वारंट के वहाँ पहुँच जाती है । बापूजी के आश्रमों में पुलिस सिविल वर्दी में जा कर पुरुष अधिकारीयों द्वारा महिलायों से पूछ-ताछ की जा रही है । जानबूझकर उनको प्रलोभन दिए जा रहे हैं कि वो लोगों संत आशारामजी बापू के खिलाफ बोले । महिला आश्रम की जाँच गुजरात महिला आयोग द्वारा की जा चुकी है और उन्हें क्लीन चिट मिली है । लेकिन फिर भी संत आशारामजी बापू को प्रताड़ित किया जा रहा है । इसीलिए वहाँ की बहनों ने ऐफ.आई.आर. भी दर्ज करवाई है ।

वकील बी. एम. गुप्ता  का इस बारे में कहना है कि : “कानून के दायरे में ये नहीं है । उसका कारण एक ही है के पोलिस को इन्वेस्टिगेशन करने के लिए कहीं भी जाने का हक है इसमें कोई शक नहीं । लेकिन अगर कहीं खास उद्देश्य से जाना है, तो उनको कारण बताना पड़ता है की हम इस उद्देश्य से इस जगह पर जा रहें हैं । और अगर किसी रम की सर्च करनी है तो पोलिस के पास या तो सर्च वारंट होना चाहिए, या फिर पहले रेसोल्यूशन पास करना पड़ता है । और उसकी नोटिंग करनी होती है की इस उद्देश्य से रूम के अंदर की तलाशी लेनी है । लेकिन पोलिस ये लीगल कोई कार्यवाई नहीं करती है । और यही फरियाद शोभा भोसले डी.सी.पी. सूरत, के खिलाफ मैंने कोर्ट में फ़ाइल की है । और अभी फरियाद दूसरी भी तैयार होकर डी.बी. रवया के खिलाफ फ़ाइल होने वाली है । और ये जाकर लेडीज को तंग करती है । गलियां बकती हैं जो की एक औरत के मुँह से अच्छी ना लगे । और अकेले में ले जाकर बापू के खिलाफ फरियाद करो हम तुम्हे प्रोटेक्शन देंगें । तुम्हे पैसे देंगें । इस तरह का लालच देतीं हैं, जो मुझे बताया गया है । उस हिसाब से ये जो सारा कम है…. ,  इन्वेस्टिगेशन का हक है…… , दायरे से बाहर जाकर ये कार्यवाही कर रही है । एक ही बात इसके दिमाग में है, जोधपुर पोलिस नाम कमा गयी, सूरत पोलिस ने नाम कमा लिया, मैं आज तक नाम नहीं कमा पाई । इसलिए ये लेडीज को वहाँ जाकर परेशान करती हैं, धमकियाँ देती हैं । और लेडीज को जाकर कहती हैं कि फरियादी बनो, मैं तुम्हे प्रोटेक्शन दूंगी ।
ये पुलिस का कानून के विरुद्ध का ये व्यवहार ही सिद्ध कर देता है कि संत आशारामजी बापू और उनके परिवार वालों को फ़साने की साजिश रची जा रही है । महिला आश्रम में पुरुष पुलिस का एक महिला को घेर कर सवाल करना, आश्रमों में बिना वारंट के छापे मारना और महिलाओं को प्रताड़ित करना …… ।”

*
नारायण साईं को भी जेल में प्रताड़ित किया जा रहा है । उनके साथ अभद्र व्यवहार किया जा रहा है, उन तक खाना नहीं पहुँचने दिया जा रहा है । तरुण तेजपाल जैसे बलात्कार के आरोपियों को, बड़े-बड़े राजनेताओं को भी जेल में वी.आई.पी. सुविधा मिल जाती है । और कई बम कांड में फँसे हुओ को भी पैरोल मिल जाती है परन्तु संत आशारामजी बापू और उनके परिवार को, जहाँ अभी आरोप सिद्ध नहीं हुआ है, इसके बाद भी उनको जेल में रख कर प्रताड़ित करना क्या उचित है ?
सनातन संस्था के प्रमुख प्रवक्ता श्री अभय व्रतक जी ने संत आशारामजी बापू का समर्थन करते हुए ये बात पहले से ही कह दी थी के संत आशारामजी बापू को एक षड्यंत्र के तहत फसाया जा रहा है ।
संत आशारामजी बापू एक उच्च कोटि के संत हैं । उनके सानिध्य में आने से कितने ही भक्तों को अलोकिक अनुभव हुए हैं । विज्ञान जगत के बड़े-बड़े डॉकटर भी संत आशारामजी बापू के द्वारा हुए चमत्कारों को देखकर आश्चर्य चकित हो जाते हैं ।
अनुभव उज्जैन के जवाहरलाल पाठी :
जवाहर के डॉकटर :
इनका एकसिडेंट हुआ जाबड़ा में । ये उज्जैन आये रात को ११-११.३० बजे । इनकी जाँघ, टाँग, पसलियाँ टूट गयी थी । इनकी जाँच के बाद इनका ऑपरेशन हुआ । उसके बाद इनको स्ट्रेचर से उतरने लगे तब इनकी साँस भयानक तरीके से चल रही थी । बाकि सब नॉर्मल, सब डॉकटर हैरान । सब दवाइयां देके देख लिया । फिर इन्होने फोन पर किसी से बात कि और बोले अब आप जाओ सब ठीक है । हम भी देख के हैरान के सब ठीक था । मैंने उनसे बाद में पूछा की क्या हुआ था ? वो पूरा समय बापू को याद कर रहा था । उसने कहा मैंने बापू से बात की, और जब तबियत ज्यादा खराब हुई तो बापू खुद आयें और कहा तुम ठीक हो जाओ । और ये ठीक हो गए । मेरा विज्ञानं नहीं मानता इन चीजों को, लेकिन मैंने देखा है तो मैं मानता हूँ ।
जवाहर :
मेरा एकसिडेंट हुआ जाबड़ा से १०किलो मीटर बॉर्डर पे शाम को ६ बजे । १०० की स्पीड से गाड़ी भीड़ गयी बस से । गाड़ी आगे से चपटा हो गयी, जाँघ, टाँग, पसलियाँ टूट गयी थी । तुरंत बाबजी ने एक ट्रक जान पहचान का भेज दिया । वो १० मिनट में हसपताल ले गया और पट्टी करवाई । फिर डॉकटर भटनागर के यहाँ ले गये । वहाँ ऑपरेशन हुआ । हमारे गुरूजी साधक का इतना ध्यान रखते हैं के कोई नहीं रखता इतना ध्यान….  ।

Keywords : asaram bapu ji , asharam bapu ji , ashram , satsang , sant , ashram, hindu , Mangalmay Sanstha Samachar, आसाराम बापूजी ,आसाराम बापू, आशाराम बापू , सत्संग, मंगलमय संस्था समाचार

#Bail4Bapuji – Prarthna kar jod ke …. lila apni chhodke… aao na gurudev …..

#Bail4Bapuji - Prarthna kar jod ke .... lila apni chhodke... aao na gurudev .....

प्रार्थना कर जोड़ के, लीला अपनी छोड़ के
आओ अब गुरुदेव ॥
प्रार्थना ………… गुरुदेव ॥
सब अधीर हैं हो रहे,
सारे साधक रो रहे, आओ अब गुरुदेव ॥
सब अधीर ………… अब गुरुदेव ॥
आप के दर्शन बिना कुछ भी ना अब भाता हमें ।
आप के ……………… हमें ।
याद करके आपकी मन बहुत तड़पाता हमें ।
याद …………… हमें ।
कष्ट इतना ना सहो, दूर हमसे ना रहो,
कष्ट इतना ………… ना रहो
आओ ना गुरुदेव ।
आओ ना गुरुदेव ।
सब अधीर ………………… गुरुदेव ।
हे प्रभु जो बन पड़ा वह सभी तो हमने ने किया
हे प्रभु ………… किया
पर सफलता ना मिली है, जल रहा सबका जिया ।
पर ………… जिया ।
आप ही कुछ कीजिये, शीघ दर्शन दीजिये, आओ अब गुरुदेव ।
आप ही ………………… गुरुदेव ।
सब अधीर ………………… गुरुदेव ॥
क्या करें हम सभी अब कुछ भी समझ ना आ रहा,
क्या करें ……………… आ रहा
अभी तक का हर प्रयास विफल ही होता जा रहा ॥
अभी …………………. रहा ॥
विपत्ति यह भारी हरो, प्रेरणा कुछ तो करो ।
आओ अब गुरुदेव ।
विपत्ति ………………… गुरुदेव ॥
सब अधीर ………………… गुरुदेव ॥
हैं सहारा हम सभी के आप तारणहार हैं ।
हैं सहारा …………… तारणहार हैं ।
पाके संबल आपका हम हो रहे भव पार हैं ।
पाके संबल ……………… भव पार हैं |
व्यासपीठ निहारते आपको ही पुकारते आओ अब गुरुदेव ।
व्यासपीठ …………………… गुरुदेव ।
सब अधीर ……………………… गुरुदेव ।
सुना आश्रम आप बिन है, सभी व्याकुल हो रहे
सुना आश्रम …………… हो रहे
आपके सानिध्य बिन सभी धैर्य अपना खो रहे
आपके ……………. खो रहे
कर कृपा अब आओ ना, विपत्ति दूर भगाओ ना, आओ ना गुरुदेव
कर कृपा ……………. गुरुदेव
सब ………………. गुरुदेव ॥
प्रार्थना कर …………………… गुरुदेव ॥
आओ ना गुरुदेव , आओ ना गुरुदेव, आओ अब गुरुदेव …………………

%d bloggers like this: