Blog Archives

गुरूभक्तियोग की महत्ता – ब्रह्मलीन स्वामी शिवानन्दजी

जिस प्रकार शीघ्र ईश्वरदर्शन के लिए कलियुग-साधना के रूप में कीर्तन-साधना है उसी प्रकार इस संशय, नास्तिकता, अभिमान और अहंकार के युग में योग की एक नई पद्धति यहाँ प्रस्तुत है-.गुरूभक्तियोग। यह योग अदभुत है। इसकी शक्ति असीम है। इसका प्रभाव अमोघ है। इसकी महत्ता अवर्णनीय है। इस युग के लिए उपयोगी इस विशेष योग-पद्धति के द्वारा आप इस हाड़-चाम के पार्थिव देह में रहते हुए ईश्वर के प्रत्यक्ष दर्शन कर सकते हैं। इसी जीवन में आप उन्हें अपने साथ विचरण करते हुए निहार सकते हैं। . . . . .

View More Here

ashram,asharam bapu,asaram ji,om,hindu,ॐ,हिन्दू,आसाराम जी,आशाराम बापू,

Advertisements

परमात्मा का पूरा पता ! तात्विक सत्संग

parmatma,pura,pata,tatvik,satsang,ashram,asharam,bapu

जानिए भगवान क्या हैं ? किधर हैं और उनसे हमारी मुलाकात कैसे हों ?

क्या आपने कभी सोचा की हमे भगवन का ‘पूरा पता’ मिलेगा !

नहीं ना ! पर संतों की ऐसी कृपा बरसती रहती हीं की हम अधिकारी हों या ना हों फिर भी ऐसे ज्ञान के भंडार हमारे लिए वे खुले चोदते हैं !

सुनिए यहा पूरा पता भगवान का !

तात्विक सत्संग परमात्मा का पूरा पता

नवसारी, गुजरात में हरिनाम संकीर्तन यात्रा

कृष्णापुर, जिला नवसारी, गुजरात में हरिनाम संकीर्तन यात्रा

navsari,gujarat,suprachar,sewa,sankirtan,yatra,asharam bapu,ashram,hindu ,threat

This slideshow requires JavaScript.

om om om bapu jaldi bahar aao

 

download

Bapuji in shiv vesh

 

 

 

 

ज्ञानवान का आत्मपद

some hindu sants throughout agesज्ञानवान आत्मपद को पाकर आनंदित होता है और वह आनंद कभी दूर नहीं होता,

क्योंकि उसको उस आनंद के आगे अष्टसिद्धियाँ तृण के समान लगती हैं।

हे रामजी ! ऐसे पुरुषों का आचार तथा जिन स्थानों में वे रहते हैं, वह भी सुनो।

कई तो एकांत में जा बैठते हैं,

कई शुभ स्थानों में रहते हैं,

कई गृहस्थी में ही रहते हैं,

कई अवधूत होकर सबको दुर्वचन कहते हैं,

कई तपस्या करते हैं,

कई परम ध्यान लगाकर बैठते हैं,

कई नंगे फिरते हैं,

कई बैठे राज्य करते हैं

कई पण्डित होकर उपदेश करते हैं,

कई परम मौन धारे हैं,

कई पहाड़ कीकन्दराओं में जा बैठते हैं,

कई ब्राह्मण हैं,

कई संन्यासी हैं,

कई अज्ञानी की नाईं विचरते हैं

कई आकाश में उड़ते हैं

और तो क्या कहे ज्ञानी के बारे में उनकी लीला तो वे ही जाने |

 

राम सेतु के पत्थर के दर्शन

राम सेतु के पत्थर की पानी मे तैरते हुए की तस्वीरें जिसकी स्थापना ७/६/१४ को जंतरमंतर पर हुई ! इसके दर्शन एकादशी तक होगी |
हरी ओम्!जंतर-मंतर पर अखण्ड धरना एवं जप पाठ नियमित रूप से चल रहा है! इस यग्य की पूर्णाहुति स्वयं बापू जी आकर करेंगे!ऐसा बापू जी ने कहा है! दिनाँक ७/६/१४ की कुछ तस्वीरें
jantar mantar update jantar mantar update

लाभकारी फलों तथा सब्जियों के रस से तमाम बीमारियों का इलाज

शरीर की रोगप्रतिरोधक शक्ति (इम्यून पावर) बढ़ाने के लिये—दो गाजर,एक छोटा टुकड़ा अदरक,एक सेब सबको मिलाकर मिक्सी में पीसकर रस निकाल लें इस तरह से एक ग्लास रस रोजाना नाश्ते के साथ लेते रहें

 

कॉलेस्ट्रॉल घटाएं- एक सेब, एक ककड़ी के चार टुकड़े करके,सात गेहूं के जवारे (यानि गेहूं के दाने गमले में उगा लीजिये अब घांस जैसे पत्ते निकलते रहेंगें वही है जवारे)इन सब को पीसकर प्रति दिन एक ग्लास सुबह नाश्ते में सेवन करें।

पेट की गड़बड़ी तथा सरदर्द मिटाएं- ककड़ीचार पांच टुकड़े,थोड़ी पत्तागोभी,सलाद के पत्ते सबको पीस लें रोज सुबह इसके रस का सेवन करें।
सांस की बदबू हटाएं तथा अपना रंग निखारे-दो टमाटर, दो सेब को मिलाकर रस निकाल लें रोजाना नाश्ते में पियें। अद्वितीय लाभ होगा।

किसी किसी के शरीर का तापमान हमेशा बढ़ा रहता है उसे नार्मल करने के लिये एक करेला,दो सेब का रस रोजाना नाश्ते में सुबह सेवन करें। इससे और भी फायदे हैं जैसे मुंह से बदबू का आना ,किसी- किसी की पेशाब से अधिक बदबू आती है सब ठीक हो जायेगा।

विद्यार्थी हेतु सत्संग

विद्यार्थी हेतु सत्संग

vidyarthi ,satsang,asharam,bapu,ashram

Julm Sahena Dugna Paap – Sant Asharamji Bapu

Julm Sahena Dugna Paap - Sant Asharamji Bapu

Shri Vedamrit 17th February 2014

Shri Vedamrit 17th February 2014

Hrugved: 1.89.2 – Chhota Bengan – Katahari – Dwitiya Tithi – Brahmavaivart Puran – Brahm.: 27.29-34 – Daibetes ke gharelu ilaj Karela se – Om.

%d bloggers like this: