Blog Archives

#Bail4Bapuji – 11-1-14 – Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin (मंगलमय संस्था समाचार)

Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin (मंगलमय संस्था समाचार) 11-1-14

Sant Shri Asharamji Ashram News Bulletin (मंगलमय संस्था समाचार) 11th January, 2014

आज संत आशारामजी बापू से जुडी हर छोटी-बड़ी खबर दिखने का कई चैनलों द्वारा दवा किया जा रहा है जिसके लिए उन्हें कितना ही झूठ क्यों ना बोलना पड़े । कुछ समय पहले शिवा भाई के मोबाइल से अश्लील वीडियो क्लिप मिलने का दावा किया गया । इसकी सच्चाई का पता तब चला जब शिवा भाई मिडिया के सामने आकर बोले : बापूजी कभी किसी लड़की से एकांत में मिलते नहीं हैं । लड़की का आरोप था के शिवा भाई ने उसको अंदर भेजा था और धमकी दी थी कि बाहर कोई बात ना करें । शिवा भाई वहाँ से ७ बजे निकल गये थे, जिनके सबूत उन्होंने कोर्ट में दे दिए । वे बापूजी के साथ ८ साल से हैं और उन्होंने मिडिया के सामने कहा के ऐसा कुछ हुआ नहीं है । अगर कुछ होता तो लड़की सामन्य स्थिति में ना होती जबकि वो रात वही रुकी, खेली अगले दिन गये तो किसी से ऐसा कुछ नहीं कहा । मेरे साथ भी बहुत जबरदस्ती की गयी की मैं वही कहूं जो वो मुझसे कहलवाना चाहते हैं । मेरी शिखा खिंच के उखाड़ ली गयी ।
एक वीडयो जिसमें संत आशारामजी बापू छोटी सी बच्ची के कंधे पर हाथ रखकर आशीर्वाद दे रहे थे, उसके लिए मिडिया में उनके अवैद्य संबंध घोषित कर दिए । इस बात को लेकर उस परिवार में काफी रोष है । और उन लोगों ने उन चैनलों के खिलाफ ऐफ.आई.आर. भी करवा दी है । उन चैनलों के खिलाफ छोटी बच्ची की इज्जत उछालने के लिए पोस्को की धारा और ज़ीरो ऐफ.आई.आर. भी लगी है । और फिर भी उनके
कर्मियों को आज सजा क्यों नहीं दी जा रही इस बात को लेकर पुरे भारत की जनता में आक्रोश है ।
ट्विटर पर भी आज बापूजी के पुरे विश्व भर के साधकों ने धूम ही मचा दी है । संत आशारामजी बापू की रिहाई को #Bail4Bapuji करके ट्वीट चल रही है । इस खबर को मिडिया में भी दिखाया जा रहा है । बार-बार ये आवाज उठ रही है के संत आशारामजी बापू को बेल क्यों नही मिल रही है और चैनलों पर गलत खबरें क्यों दिखायी जा रही हैं ?
अहमदाबाद आश्रम में रहने वाली महिलाओं को पुलिस द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है । पुलिस बिना वारंट के वहाँ पहुँच जाती है । बापूजी के आश्रमों में पुलिस सिविल वर्दी में जा कर पुरुष अधिकारीयों द्वारा महिलायों से पूछ-ताछ की जा रही है । जानबूझकर उनको प्रलोभन दिए जा रहे हैं कि वो लोगों संत आशारामजी बापू के खिलाफ बोले । महिला आश्रम की जाँच गुजरात महिला आयोग द्वारा की जा चुकी है और उन्हें क्लीन चिट मिली है । लेकिन फिर भी संत आशारामजी बापू को प्रताड़ित किया जा रहा है । इसीलिए वहाँ की बहनों ने ऐफ.आई.आर. भी दर्ज करवाई है ।

वकील बी. एम. गुप्ता  का इस बारे में कहना है कि : “कानून के दायरे में ये नहीं है । उसका कारण एक ही है के पोलिस को इन्वेस्टिगेशन करने के लिए कहीं भी जाने का हक है इसमें कोई शक नहीं । लेकिन अगर कहीं खास उद्देश्य से जाना है, तो उनको कारण बताना पड़ता है की हम इस उद्देश्य से इस जगह पर जा रहें हैं । और अगर किसी रम की सर्च करनी है तो पोलिस के पास या तो सर्च वारंट होना चाहिए, या फिर पहले रेसोल्यूशन पास करना पड़ता है । और उसकी नोटिंग करनी होती है की इस उद्देश्य से रूम के अंदर की तलाशी लेनी है । लेकिन पोलिस ये लीगल कोई कार्यवाई नहीं करती है । और यही फरियाद शोभा भोसले डी.सी.पी. सूरत, के खिलाफ मैंने कोर्ट में फ़ाइल की है । और अभी फरियाद दूसरी भी तैयार होकर डी.बी. रवया के खिलाफ फ़ाइल होने वाली है । और ये जाकर लेडीज को तंग करती है । गलियां बकती हैं जो की एक औरत के मुँह से अच्छी ना लगे । और अकेले में ले जाकर बापू के खिलाफ फरियाद करो हम तुम्हे प्रोटेक्शन देंगें । तुम्हे पैसे देंगें । इस तरह का लालच देतीं हैं, जो मुझे बताया गया है । उस हिसाब से ये जो सारा कम है…. ,  इन्वेस्टिगेशन का हक है…… , दायरे से बाहर जाकर ये कार्यवाही कर रही है । एक ही बात इसके दिमाग में है, जोधपुर पोलिस नाम कमा गयी, सूरत पोलिस ने नाम कमा लिया, मैं आज तक नाम नहीं कमा पाई । इसलिए ये लेडीज को वहाँ जाकर परेशान करती हैं, धमकियाँ देती हैं । और लेडीज को जाकर कहती हैं कि फरियादी बनो, मैं तुम्हे प्रोटेक्शन दूंगी ।
ये पुलिस का कानून के विरुद्ध का ये व्यवहार ही सिद्ध कर देता है कि संत आशारामजी बापू और उनके परिवार वालों को फ़साने की साजिश रची जा रही है । महिला आश्रम में पुरुष पुलिस का एक महिला को घेर कर सवाल करना, आश्रमों में बिना वारंट के छापे मारना और महिलाओं को प्रताड़ित करना …… ।”

*
नारायण साईं को भी जेल में प्रताड़ित किया जा रहा है । उनके साथ अभद्र व्यवहार किया जा रहा है, उन तक खाना नहीं पहुँचने दिया जा रहा है । तरुण तेजपाल जैसे बलात्कार के आरोपियों को, बड़े-बड़े राजनेताओं को भी जेल में वी.आई.पी. सुविधा मिल जाती है । और कई बम कांड में फँसे हुओ को भी पैरोल मिल जाती है परन्तु संत आशारामजी बापू और उनके परिवार को, जहाँ अभी आरोप सिद्ध नहीं हुआ है, इसके बाद भी उनको जेल में रख कर प्रताड़ित करना क्या उचित है ?
सनातन संस्था के प्रमुख प्रवक्ता श्री अभय व्रतक जी ने संत आशारामजी बापू का समर्थन करते हुए ये बात पहले से ही कह दी थी के संत आशारामजी बापू को एक षड्यंत्र के तहत फसाया जा रहा है ।
संत आशारामजी बापू एक उच्च कोटि के संत हैं । उनके सानिध्य में आने से कितने ही भक्तों को अलोकिक अनुभव हुए हैं । विज्ञान जगत के बड़े-बड़े डॉकटर भी संत आशारामजी बापू के द्वारा हुए चमत्कारों को देखकर आश्चर्य चकित हो जाते हैं ।
अनुभव उज्जैन के जवाहरलाल पाठी :
जवाहर के डॉकटर :
इनका एकसिडेंट हुआ जाबड़ा में । ये उज्जैन आये रात को ११-११.३० बजे । इनकी जाँघ, टाँग, पसलियाँ टूट गयी थी । इनकी जाँच के बाद इनका ऑपरेशन हुआ । उसके बाद इनको स्ट्रेचर से उतरने लगे तब इनकी साँस भयानक तरीके से चल रही थी । बाकि सब नॉर्मल, सब डॉकटर हैरान । सब दवाइयां देके देख लिया । फिर इन्होने फोन पर किसी से बात कि और बोले अब आप जाओ सब ठीक है । हम भी देख के हैरान के सब ठीक था । मैंने उनसे बाद में पूछा की क्या हुआ था ? वो पूरा समय बापू को याद कर रहा था । उसने कहा मैंने बापू से बात की, और जब तबियत ज्यादा खराब हुई तो बापू खुद आयें और कहा तुम ठीक हो जाओ । और ये ठीक हो गए । मेरा विज्ञानं नहीं मानता इन चीजों को, लेकिन मैंने देखा है तो मैं मानता हूँ ।
जवाहर :
मेरा एकसिडेंट हुआ जाबड़ा से १०किलो मीटर बॉर्डर पे शाम को ६ बजे । १०० की स्पीड से गाड़ी भीड़ गयी बस से । गाड़ी आगे से चपटा हो गयी, जाँघ, टाँग, पसलियाँ टूट गयी थी । तुरंत बाबजी ने एक ट्रक जान पहचान का भेज दिया । वो १० मिनट में हसपताल ले गया और पट्टी करवाई । फिर डॉकटर भटनागर के यहाँ ले गये । वहाँ ऑपरेशन हुआ । हमारे गुरूजी साधक का इतना ध्यान रखते हैं के कोई नहीं रखता इतना ध्यान….  ।

Keywords : asaram bapu ji , asharam bapu ji , ashram , satsang , sant , ashram, hindu , Mangalmay Sanstha Samachar, आसाराम बापूजी ,आसाराम बापू, आशाराम बापू , सत्संग, मंगलमय संस्था समाचार

Advertisements
%d bloggers like this: